Press ESC to close

Livelihoods

राष्ट्रीय लॉकडाउन में लड़खड़ाती आजीविका

बलवंत सिंह मेहता और अर्जुन कुमार लॉकडाउन होने के बाद के हफ्तों में देश में केवल 285 मिलियन लोग काम कर रहे थे जबकि 404 मिलियन लोग महामारी फैलने से पहले कार्यरत थे। विश्व स्तर पर कोरोनवायरस के फैलने से 25 मिलियन से अधिक नौकरियों को खतरा होगा अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) का अनुमान है कि 3.3…