सिमी मेहता

चीन के बाद में दुनिया भर में कोरोनावायरस का प्रकोप अपने पैमाने और प्रभाव दोनों में अभूतपूर्व रहा है। बदलते विश्व व्यवस्था के युग में इस महामारी ने गैर-पारंपरिक सुरक्षा चुनौतियों से उत्पन्न खतरों की ओर, वैश्विक ध्यान आकर्षित किया है।

सभी सैन्य प्रगति और आर्थिक प्रगति के रिकॉर्ड को कोरोनोवायरस रोग ने क्षमता विहीन रूप में प्रस्तुत किया है। दुनियाभर में कुल 5 मिलियन मामलों जिनमें केवल चीन में ही लगभग 83,000 मामलों  के साथ, अमेरिका, रूस, स्पेन, फ्रांस, जर्मनी, इटली जैसी प्रमुख शक्तियों के शक्ति प्रदर्शन वाले सारे पैमाने निचले पड़ाव में आ गए हैं।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति के उद्देश्य देशों की स्वास्थ्य सुरक्षा, जिसमें विश्व स्वास्थ्य संगठन की सामूहिक स्वास्थ्य सुरक्षा की अवधारणा शामिल है। संयुक्त राष्ट्र ने उनकी गंभीरता, दक्षता और उनके द्वारा किए जा रहे दावों पर सवाल उठाए हैं।

वायरस की उत्पत्ति के संबंध में अलग-अलग कथन हुए हैं। यह लेख इस दावे का विश्लेषण करता है कि दवा, टीके, और स्वास्थ्य जोखिमों के लिए अनुसंधान और विकास कार्यक्रम, प्रमुख शक्तियों द्वारा प्रायोगिक हथियारों पर गहन शोध के लिए योजना और निवेश के लिए करोना वायरस नामक छूत के खतरनाक स्ट्रैंड के निर्माण का नेतृत्व किया।

चीन पर आरोप

इस बात से कोई इंकार नहीं है कि जिस स्थान पर यह सब हुआ था वह वुहान, चीन में था। वहां हजारों लोग सांस की बीमारी से पीड़ित होने लगे जो ठीक नहीं हो सके। डब्लूएचओ ने कोरोनो वायरस को वायरस के परिवार का एक हिस्सा बताया है। जो सामान्य सर्दी से लेकर मध्य पूर्व रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (MERS) और सार्स तक होता है।

यह जानवरों और मनुष्यों के बीच फैलने करने की क्षमता रखता है। बहुत जल्द चीनी सरकार के दावों के विपरीत एक स्कूल का मानना ​​था कि यह जंगली जानवरों को बेचने वाले गीले बाजार में था। जिसमें चमगादड़ भी शामिल थे जो इस महामारी का कारण हैं।

हालांकि, जवाबी दावा है कि गीले बाजार के आसपास के क्षेत्र में वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी नेशनल बायोसेफ्टी लैब ने जानबूझकर इस वायरस को बनाया था।

जवाबी दावों के पक्ष में जो तर्क दिए गए हैं, उनमें शामिल है कि चीन ने इसके अस्तित्व के बारे में विश्व स्तर पर ठीक से सूचित नहीं किया, यहां तक कि जनवरी 2020 के अंत तक बड़े प्रकोपों ​​की सूचना नहीं दी गई और तब तक वायरस को फैलाने के लिया छोड़ दिया गया।

तमाम सिद्धांत प्रसारित होते रहे हैं कि इस वायरस को प्रयोगशाला द्वारा जैव हथियारों के रूप में या फिर दुर्घटना से बचने के लिए बनाया गया था। कुछ रिपोर्टों में यह भी दावा किया गया है कि यह वायरस मूल रूप से जुलाई 2019 में कनाडाई प्रयोगशाला से चीनी एजेंटों द्वारा चुराया गया था। जिसमें जैव सुरक्षा के चार स्तर हैं। सबसे खतरनाक रोगजनकों से निपटना जिसके लिए कुछ उपलब्ध टीके या उपचार हैं।

इसके अलावा, इसने अपने देश में अंतरराष्ट्रीय तथ्य खोज मिशन को खारिज कर दिया है। वॉल स्ट्रीट जर्नल, द न्यूयॉर्क टाइम्स और वाशिंगटन पोस्ट जैसे समाचार पत्रों को भारी नुकसान हुआ है और उनके कुछ कर्मचारियों को देश में अपने कार्यों को बंद करने के लिए कहा गया है।

यहां तक ​​कि कोरोनोवायरस पर अकादमिक शोध पत्रों ने चीनी अधिकारियों के गैग-ऑर्डर द्वारा वैज्ञानिक प्रक्रिया की स्वतंत्रता में हस्तक्षेप करने का खामियाजा उठाया है। कोविड-19 पर ध्यान केंद्रित करने वाले उन शोध लेखों को अब प्रकाशन के लिए प्रस्तुत करने से पहले अतिरिक्त वेटींग से गुजरना पड़ता है।

नतीजतन इस वायरस के प्रकोप से पीड़ित चीन के लिए प्रारंभिक वैश्विक सहानुभूति लगातार संदेह और डर में बदल गई, जो कि कोविड-19 के उद्भव और प्रसार के लिए चीन से पुनर्मूल्यांकन की मांग को लेकर गुस्से में आ गई है।

चीनी आलोचना से अप्रभावित, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने स्पष्ट रूप से कोरोनवायरस को चीनी वायरस का नाम दिया था। उन्होंने डब्ल्यूएचओ पर चीन के साथ तथ्यों को छिपाने में भी आरोप लगाया है और बहु-पार्श्व निकाय में इसके योगदान को निलंबित कर दिया है। साथ ही कहा है कि डब्ल्यूएचओ को खुद के लिए शर्मिंदा होना चाहिए क्योंकि वे चीन के लिए जनसंपर्क एजेंसी की तरह हैं।

वायरस की उत्पत्ति और प्रसार के पीछे सच्चाई जानने के लिए एक अंतरराष्ट्रीय जांच की आवाज़ तेज हो रही है। अपनी एक-पक्षीय सत्तावादी व्यवस्था के साथ चीन शुरू में रक्षात्मक था और इस तरह के सभी आवाजों को मजबूती से मना कर दिया था जो कि इस मामले में जोड़ा गया है कि कुछ ऐसा है जिसे वह बाकी दुनिया से छिपाना चाहता था।

हालांकि बढ़ते अंतरराष्ट्रीय दबावों, ऑस्ट्रेलिया और यूरोपीय संघ के नेतृत्व वाले सबसे हालिया ड्राफ्ट रिज़ॉल्यूशन और WHO के वर्ल्ड हेल्थ असेंबली में 122 देशों द्वारा समर्थित चीन के साथ आखिरकार कोविड-19 महामारी की एक “उद्देश्य और निष्पक्ष” तरीके से “व्यापक समीक्षा” की मांग के लिए सहमत हुए।

यहां तक कि यह कई देशों को प्रदान की जा रही सक्रिय मदद की ओर भी इशारा कर रहा है। हालांकि जिसमें सुरक्षात्मक गियर, फेस मास्क, दस्ताने इत्यादि भेजने के मामलों में भी शिकायतें की गई हैं क्योंकि इनमें से कई में खराबी थी या वे दोषपूर्ण थे।

निष्कर्ष

1919 में जॉर्ज ए. सॉपर, ने लिखा था कि पृथ्वी के चारों ओर बहने वाली घातक स्पैनिश फ़्लू महामारी बिना किसी मिसाल के थी और पहले इस तरह की कोई तबाही नहीं हुई थी। अचानक, इतनी विनाशकारी और इतनी सार्वभौमिक ‘। उन्होंने टिप्पणी की कि, “महामारी के बारे में सबसे आश्चर्यजनक बात पूर्ण रहस्य थी जिसने इसे घेर लिया। किसी को भी यह पता नहीं लग रहा था कि यह बीमारी क्या है, यह कहां से आई है या इसे कैसे रोका जाए। चिंताग्रस्त मन आज पूछताछ कर रहा है कि क्या इसकी एक और लहर फिर से आएगी ”।

दुनिया भर में लगभग 3 मिलियन सकारात्मक मामलों और लगभग 0.2 मिलियन मौतों के साथ, कोरोनवायरस ने लोगों को 1918 स्पेनिश फ्लू जैसे घातक वायरस के इतिहास के साथ समानताएं खींचने के लिए मजबूर किया है।

कोविड 19 द्वारा बनाई गई यह महान मानव त्रासदी एक निश्चित इलाज या एक टीका की अनुपस्थिति के कारण जटिल है।विशेषज्ञों का कहना है कि यह केवल 2021 की पहली तिमाही तक संभव होगा। वायरस के मूल और वैश्विक प्रसार के कारणों के संबंध में चीन में प्रचलित व्यवहार  अंतरराष्ट्रीय समुदाय के विभिन्न हिस्सों से निकलने के लिए षड्यंत्र के सिद्धांतों का कारण बनी है। स्वास्थ्य संकट के लिए चीन को जवाबदेह ठहराने की मांग की जाने लगी है और यह भी कि दुनिया के देशों को उनके स्वास्थ्य और आर्थिक कठिनाइयों के लिए भुगतान करना चाहिए।

ट्रम्प ने संकेत दिया है कि अमेरिका ने चीन से ‘पर्याप्त’ नुकसान का दावा करने के लिए अपनी जांच शुरू कर दी है क्योंकि इस पूरी स्थिति के स्रोत पर रोका जा सकता था।हेनरी किसिंजर ने चेतावनी दी कि कोविड19 उदार अंतरराष्ट्रीय आदेश के लिए एक खतरा था।

यहां तक ​​कि भारत सरकार के एक कैबिनेट मंत्री, नितिन गडकरी ने एक निजी समाचार चैनल को दिए साक्षात्कार में कहा कि कोरोनावायरस एक प्राकृतिक वायरस नहीं है, बल्कि यह एक प्रयोगशाला से निकला है ‘।

यह संभवतः भारत को अपने उत्तरी पड़ोसी चीन को चार्ज करने के अगले कदमों के बारे में बताता है क्योंकि देश उस वायरस के निर्माण के लिए जिम्मेदार है जिसने दुनिया भर के जीवन, आजीविका और अर्थव्यवस्था में अविश्वसनीय और अभूतपूर्व तबाही ला दी है।

इसलिए यह चीन के सर्वोत्तम हित में होगा कि वह पारदर्शिता सुनिश्चित करे और बीमारी की अंतरराष्ट्रीय जांच की अनुमति दे, क्योंकि यह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्यों की वीटो शक्तियों का पूरी तरह से असंतुलित होना है।

प्रचलित स्वास्थ्य असुरक्षा से पैदा हुई दुनिया भर की दहशत, दुनिया के सभी देशों के कार्यक्रमों और नीति के अर्थ, परिभाषा और व्यावहारिक निहितार्थ को फिर से परिभाषित करेगी। इसे परिप्रेक्ष्य में रखते हुए वैश्विक स्वास्थ्य प्रबंधन निकाय- डब्ल्यूएचओ को सुधारने की आवश्यकता है और इसलिए शुरुआत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भी होना चाहिए।

यह देखा जाना बाकी है कि विश्व संकट के माध्यम से कैसे आगे बढ़ता है और क्या व्यापक सार्वजनिक स्वास्थ्य कोविड19, विश्व व्यवस्था के बाद के अपने राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंडा में शामिल होगा। बहरहाल यह समय है कि बहुपक्षीय एजेंसियां ​​चीन द्वारा बनाए गए कहर का संज्ञान लें और सामूहिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय कानून के मानदंडों के अनुसार कार्य करें।

संदर्भ

 https://www.telegraph.co.uk/news/2020/05/24/what-coronavirus-pandemic-covid-19-uk-virus/

 https://www.theweek.in/news/world/2020/01/28/coronavirus-outbreak-a-result-of-chinese-biological-espionage.html

 https://www.nytimes.com/2020/03/24/business/media/china-journalists-newspapers.html

 https://www.theguardian.com/world/2020/apr/11/china-clamping-down-on-coronavirus-research-deleted-pages-suggest

 https://apps.who.int/gb/ebwha/pdf_files/WHA73/A73_CONF1Rev1-en.pdf

 https://www.globaltimes.cn/content/1188716.shtml

 https://www.bbc.com/news/world-europe-52092395

 https://www.bbc.com/news/world-asia-india-52378265

 https://science.sciencemag.org/content/49/1274/501

 https://coronavirus.jhu.edu/map.html

 https://www.hopkinsmedicine.org/health/conditions-and-diseases/coronavirus

https://www.theweek.in/wire-updates/international/2020/04/28/fgn1-virus-us-china.html

 https://www.wsj.com/articles/the-coronavirus-pandemic-will-forever-alter-the-world-order-11585953005

 https://www.ndtv.com/india-news/virus-is-from-a-lab-not-natural-says-nitin-gadkari-to-ndtv-2228299?pfrom=video-read

लेखिका डॉ सिमी मेहता, सी.ई.ओ., प्रभाव एवं नीति अनुसंधान संस्थान, (IMPRI)

नोट : यह लेख इंग्लिश लेख Checkmate! China’s Coronavirus Connection का हिन्दी अनुवाद है जिसे मूल रूप से यहाँ पर इंग्लिश में पढ़ा जा सकता हैं|

अस्वीकरण: यह लेख पहले 25 मई 2020 www.youthkiawaaz.com में प्रकाशित किया गया :चीन का कोविड 19 सम्बंध:आख़िरकार चीन ने स्वतंत्र अंतर्राष्ट्रीय जाँच की माँग पर घुटने टेके

चित्र सौजन्य : Pixabay